Breaking News

हिसार लाठीचार्ज मामले में प्रशासन और पुलिस में समझौते के बाद किसानों पर केस क्यों- अरोड़ा

हिसार । हिसार में पुलिस द्वारा किसानों पर किए गए लाठीचार्ज तथा आंसू गैस के गोले छोड़ने के मामले में विवाद गहराता जा रहा है. कांग्रेस नेता अशोक अरोड़ा ने किसानों पर हुए अत्याचार को लेकर प्रदेश सरकार को जमकर कोसा. कुरुक्षेत्र में पत्रकारों से बातचीत करते हुए अरोड़ा ने कहा कि हिसार लाठीचार्ज मामले में प्रशासन और किसानों के बीच समझौता हो गया था, लेकिन इसके बाद भी किसानों पर केस दर्ज किए गए. प्रदेश की भाजपा सरकार लोकतंत्र को खत्म करने पर तुली है.

क्या था मामला

दरअसल मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर हिसार में चौधरी देवी लाल स्टेडियम में कोरोना मरीजों के इलाज के लिए अस्थाई अस्पताल का उद्घाटन करने के लिए गए थे. किसानों को जब इस बात की भनक लगी कि मुख्यमंत्री का आज हिसार आगमन है, तो बहुत सी संख्या में किसान वहां इकट्ठा हुए और विरोध प्रदर्शन करना शुरू कर दिया. स्थिति को संभालने के लिए भारी पुलिस बल भी तैनात था.

यह भी पढ़े   हरियाणा के 22 जिलों में है 1319 अवैध कॉलोनियाँ, लिस्ट की गई तैयार, सरकार उठा सकती है बड़ा कदम

अचानक से माहौल बिगड़ने लगा. पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े और किसानों पर लाठीचार्ज भी किया. बताया जाता है कि इस दौरान किसानों को चोटें आई. साथ ही कई पुलिस वाले भी घायल हुए. प्रशासन और किसानों के बीच इस मामले पर समझौता भी हो गया था. लेकिन उसके बाद 350 किसानों पर हत्या का प्रयास करने का मुकदमा दर्ज करवा दिया गया. इसी को लेकर किसानों में रोष व्याप्त है. आज कांग्रेस की तरफ से अशोक अरोड़ा ने किसानों का समर्थन करते हुए कहा कि किसानों पर हुए लाठीचार्ज के बाद उन पर केस दर्ज करवाना सही नहीं है.

यह भी पढ़े   हरियाणा में पंचायती राज चुनाव की तैयारियां हुई शुरू, जाने

About Rohit Kumar