Breaking News

किसान आंदोलन में आंदोलनकारी पर पेट्रोल छिड़क लगाई आग, बहादुरगढ़ अस्‍पताल में तोड़ा दम

बहादुरगढ़ । तीन कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे आंदोलन में आज एक बड़ी घटना सामने आई है. बता दे कि एक आंदोलनकारी को आग लगाकर मारने का मामला सामने आया है. मृतक के जलाने से पहले आंदोलन को लेकर जातीय टिप्पणी की गई थी, उसके बाद उसे जलाने की बात कही जा रही थी. इस घटना की वजह से एक बार फिर आंदोलन सवालों के घेरे में है.

एक बार फिर सवालों के घेरे में किसान आंदोलन

बता दे कि बहादुरगढ़ बाईपास पर गांव कसार के पास आंदोलन मे गए गांव कसार के ही एक व्यक्ति को तेल छिड़ककर आग लगा दी गई. गंभीर रूप से आग से झुलसे व्यक्ति की उपचार के दौरान मौत हो गई. आग लगाने का आरोप जींद के आंदोलनकारी पर लगा है. वही इस घटनास्थल का एक वीडियो भी सामने आया है. वह जातिगत टिप्पणी कर रहा है, आंदोलन में शहीद होने का नाम देकर कसार निवासी मुकेश पर तेल छिड़का गया और फिर आग लगाई गई.

यह भी पढ़े   गैंगरेप का मुख्य आरोपी फूल लेकर गर्लफ्रेंड से मिलने पहुंचा भिवानी के हुड्डा पार्क में, पुलिस ने किया गिरफ्तार

बता दें कि इससे पहले शराब भी पिलाई गई. मृतक के भाई के बयान पर पुलिस ने मामला दर्ज करके जांच शुरू कर दी है. वहीं इस मामले में आरोपी अभी भी फरार है. पुलिस का कहना है कि जल्द से जल्द आरोपी को गिरफ्तार कर लिया जाएगा. अभी तक हत्या के कारणों का स्पष्ट रूप से पता नहीं लग पाया है. पुलिस को दी गई शिकायत में गांव कसार निवासी मदनलाल पुत्र जगदीश ने बताया कि मेरा भाई मुकेश बुधवार शाम लगभग 5:00 बजे घर से घूमने के लिए निकला था,  जो किसान आंदोलनकारियों के पास पहुंच गया. मुझे टेलीफोन से पता चला कि आपके भाई पर आंदोलनकारियों ने जान से मारने की नियत से तेल छिड़क कर आग लगा दी है. उसके बाद मैं तुरंत गांव के पूर्व सरपंच टोनी को अपने साथ लेकर मौके पर पहुंचा. मैंने देखा कि मेरा भाई मुकेश गंभीर रूप से आग से झूलसा हुआ है. उसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया जहां उपचार के दौरान उसकी मौत हो गई.

यह भी पढ़े   धरने पर बैठे बुजुर्ग किसान को पहले पिलाई शराब, बाद में किया तेजधार हथियार से हमला

About Monika Sharma