Breaking News

किसानों के संसद कूच के दौरान असामाजिक तत्वों द्वारा बवाल करने की संभावना, खुफिया एजेंसियों ने सौंपी रिपोर्ट

सोनीपत। किसानों के संसद कूच के दौरान असामाजिक तत्व उस में घुसकर बवाल पैदा कर सकते हैं. इसको लेकर सोशल मीडिया पर भी वीडियो देखे जा सकते हैं. लोगों के मोबाइल पर भी फोन की जा रही है. इनमें बवाल करने के लिए भड़काऊ बयान बाजी की गई है. इन्हीं आशंकाओं को देखते हुए खुफिया एजेंसियों ने सरकार को रिपोर्ट भेज दी है. खुफिया एजेंसियों द्वारा सरकार को भेजी गई रिपोर्ट में सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाने की सलाह दी गई है.

संसद कूच का किया गया है ऐलान

गौरतलब है कि संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा 22 जुलाई को किसानों द्वारा संसद कूच का ऐलान किया गया है. इस दौरान 22 राज्यों के संगठनों से करीब 200 किसान नेता संसद कूच में हिस्सा लेंगे. किसान नेता दिल्ली स्थित सिंघु बॉर्डर से दिल्ली जाएंगे और संसद से पहले मार्च करेंगे. इस मामले में खुफिया एजेंसियों ने सरकार को रिपोर्ट सौंपते हुए बताया है कि इस दौरान असामाजिक तत्व अव्यवस्था फैला सकते हैं. इसलिए किसानों को और बाकी लोगों को उकसाने का काम किया जा रहा है.

यह भी पढ़े   जेजेपी में पड़ी फूट, इस नेता ने दिया पार्टी से इस्तीफा, कहा-जेजेपी बन चुकी है भाजपा की गुलाम

की जा रही है संसद पर कब्जा करने की भड़काऊ बातें

अलगाववादी संगठन सिख फॉर जस्टिस द्वारा वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल किया गया था, जिसमें केसरी झंडा, तलवार लेकर दिल्ली में जबरदस्ती घुस कर संसद पर कब्जा करने की भड़काऊ बात की गई थी. अब किसानों के मोबाइल फोन पर भी कॉल की जा रही है, जिसमें पंजाब को आजाद कराने तथा बाकी उकसाने वाली बातें की जा रही हैं. इस बारे में संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य बलबीर सिंह राजे वाल ने बताया कि हम पूरी तरह सतर्क है और ऐसी व्यवस्था की जाएगी कि सभी के पहचान पत्र बनाए जाएंगे. उसके बाद ही उन्हें बस में बैठाया जाएगा. दिल्ली पहुंचने के बाद भी सभी के पहचान पत्रों को देखा जाएगा. उन्होंने कहा कि वह नहीं चाहते कि 26 जनवरी की तरह अबकी बार भी असामाजिक तत्व आंदोलन में घुसकर बवाल पैदा करें.

यह भी पढ़े   संयुक्त किसान मोर्चा से गुरनाम सिंह चढूनी को 7 दिन के लिए किया गया सस्पेंड, बयानबाजी करने पर की गई कार्रवाई

About Rakesh Kumar