Breaking News

आंगनबाड़ी वर्कर एवं हेल्पर के सामने पोषण ट्रैकर एप बना मुसीबत, अधिकतर के पास नहीं है स्मार्टफोन

चंडीगढ़ । प्रदेश सरकार के लगभग सभी महत्वपूर्ण योजनाओं में आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं हेल्पर महत्वपूर्ण निभाती है. आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं एवं हेल्पर की दिनचर्या कोरोना काल में और भी मुश्किल हो गई है. लंबित मांगों की अनदेखी को लेकर भले ही आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं हेल्परों में रोष है,  लेकिन टीकाकरण अभियान के प्रति अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए वे तमाम दिक्कतों के बावजूद अभियान में पूरे उत्साह के साथ लगी हुई है.

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा लगातार की जा रही है उचित सम्मान की मांग 

आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एंड हेल्पर अपनी उपेक्षा से आहत भी है उचित सम्मान की मांग कर रही है. फतेहाबाद जिले में 1096 आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं व 1079 हेल्पर अपनी सेवाएं दे रही हैं. इनमें फतेहाबाद में 283 आंगनवाड़ी कार्यकर्ता वे 223 साइट पर टोहाना में 194 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व 190 हेल्पर, रतिया में 247 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व 247 हेल्पर, भूना में 152 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व 152 हेल्पर, भट्टूकलां में 140 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व 140 हेल्पर व जाखल में 80 आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व 77 हेल्पर कार्यरत हैं. आंगनवाड़ी वर्कर व हेल्पर यूनियन ब्लाक फतेहाबाद अध्यक्ष देवंती का कहना है कि गांव में घर-घर जाकर लोगों को टीका लगवाने के लिए प्रेरित किया जा रहा है.

यह भी पढ़े   हरियाणा सरकार की बड़ी घोषणा: आउटसोर्सिंग भर्ती में इन उम्मीदवारों को मिलेगा 20 प्रतिशत आरक्षण

कोरोना टीकाकरण से कोई ना छूटे इस बात का भी विशेष ध्यान रखा जा रहा है. कोरोना काल में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं के हितों के लिए प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा की गई थी, लेकिन आज तक उस घोषणा पर अमल नहीं किया गया है. कोरोना संक्रमित आंगनवाड़ी हेल्पर को ₹1लाख की सहायता देनी चाहिए. अगर किसी वर्कर व हेल्पर की संक्रमण से जान चली जाती है तो उसके बच्चे की परवरिश के लिए ₹20 लाख रूपये दिए जाने चाहिए. वही आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं बुवान निर्मल ने बताया कि टीकाकरण अभियान बहुत ही महत्वपूर्ण अभियान है इसलिए हम इसे पीछे नहीं हटेंगे. हमारी जिम्मेदारी है और हम इसे पूरी तरह निभा कर रहेंगे.

यह भी पढ़े   1 जून से खुलेंगी CSD कैंटीन, पहले होगा रजिस्ट्रेशन, ये लोग नहीं जा पाएंगे

About Monika Sharma