Breaking News

छह नौकरियां छोड़ी, दो बार इस BJP के नेता से भी लिया पंगा, जानिए कौन हैं IPS संगीता कालिया

चंडीगढ़ । हरियाणा की महिला आईपीएस संगीता कालिया की कहानी बहुत ही दिलचस्प है. उनके पिता पुलिस विभाग में कारपेंटर थे. बता दे कि संगीता कालिया 6 नौकरियां छोड़कर आईपीएस बनी है. वह एसपी पद पर रहते हुए भी दो बार एक ही बीजेपी के मंत्री से भिड़ चुकी है. जिसकी  उन्हें सजा भी मिली थी. बता दें कि संगीता कालिया भिवानी जिले के एक साधारण परिवार में जन्मी लड़की है, उन्होंने कुछ अलग करने का सपना देखा और उसे पूरा भी किया.

संगीता कालिया 6 नौकरियों को छोड़कर बनी आईपीएस 

बहुत कम लोग ही है जानते होंगे कि जिस पुलिस विभाग में उनके पिता कारपेंटर हुआ करते थे, उसी विभाग में बतौर एसपी उनकी पहली पोस्टिंग हुई थी. बता दे कि आईपीएस संगीता कालिया के पिता धर्मपाल फतेहाबाद पुलिस में कार्यरत थे. वे 2010 में वहां से रिटायर हुए थे. उन्होंने अपनी पढ़ाई भिवानी से ही की है और 2005 में पहली बार यूपीएससी परीक्षा दी थी. 2009 में तीसरे प्रयास में उन्होंने परीक्षा को पास कर लिया. संगीता कालिया ने बताया कि उन्हें पुलिस में आने की प्रेरणा उड़ान सीरियल देख कर और उनके पिता से मिली है. उनके पति विवेक कालिया भी हरियाणा में एचसीएस है. संगीता कालिया वह शख्सियत है  जो  6 नौकरियों के ऑफर को छोड़कर पुलिस विभाग में आई है.

यह भी पढ़े   चमत्कार: डॉक्टरों ने किया मृत घोषित, घर आते ही चालू हो गई बच्चे की धड़कन

2018 में अनिल विज से हुआ था विवाद

 संगीता कालिया का वर्ष 2018 में स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज के साथ विवाद हुआ था, जिसके कारण वह चर्चा में भी आई थी. अनिल विज फतेहाबाद में कष्ट निवारण समिति की बैठक ले रहे थे, नशे की बिक्री संबंधित एक शिकायत पर अनिल विज ने संगीता कालिया से जवाब मांगा.

तब उन्होंने जवाब दिया कि हमने शराब तस्करों  पर साल में ढाई हजार मामले दर्ज किए है. लेकिन पुलिस किसी को गोली नहीं मार सकती.इस बात को लेकर दोनों के बीच कहासुनी हुई, जिसकी वहज से यह बैठक बीच में ही रोकने पड़ी थी. एक बार वह रेवाड़ी से ट्रांसफर होकर पानीपत आई थी. तब पानीपत में फिर से उनका सामना मंत्री अनिल विज से हो गया, यही नहीं वे फिर से मंत्री के गुस्से का शिकार हो गई. उन्होंने एसपी साहिबा की शिकायत सीएम खट्टर से कर दी. इसकी वजह से उनका सवा 2 महीने के अंदर दोबारा से ट्रांसफर कर दिया गया.

यह भी पढ़े   फरीदाबाद में आज 10 हजार घरो को तोड़ेगा प्रशासन, पूरा क्षेत्र पुलिस छावनी में तब्दील

About Monika Sharma