Breaking News

10 जून को होगा साल का पहला सूर्य ग्रहण, शनि जयंती और वट सावित्री पूजा पर बना खास संयोग

करनाल । 10 जून को इस साल का पहला सूर्य ग्रहण लगेगा. बता दे कि यह सूर्य ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा. इस दिन एक खास संयोग बन रहा है. शनि अमावस्या और वट सावित्री पूजा होने के कारण इसका खास महत्व हो गया है. हिंदू पंचांग के अनुसार 10 जून को जेष्ठ माह की अमावस्या तिथि है. इस दिन एक तरफ जहां वट सावित्री व्रत है, वहीं इसी दिन अमावस्या और शनि जयंती भी है. बता दे कि वट सावित्री व्रत सुहागिन महिलाएं अपने सुहाग और संतान की लंबी उम्र के लिए रखती है. इस दिन वट वृक्ष की पूजा की जाती है. साथ ही इस दिन अमावस्या की तिथि भी है,  पितरों के लिए तर्पण कार्य भी इसी दिन किया जाएगा.

यह भी पढ़े   Chandra Grahan 2021: 26 मई को है चंद्र ग्रहण, जानें ग्रहण के समय क्या न करें

10 जून को साल का पहला सूर्य ग्रहण

बता दें कि धर्मनगरी कुरुक्षेत्र के गायत्री ज्योतिष अनुसंधान केंद्र के संचालक डॉ रामराज कौशिक ने बताया कि जयेष्ठ महीने की अमावस्या तिथि के दिन शनि देव का जन्म हुआ था. इस दिन को शनि जयंती के नाम से जाना जाता है. इस बार 10 जून को साल का पहला सूर्य ग्रहण भी लगेगा. यह ग्रहण कुल 5 घंटे लगेगा.

बता दें कि भारतीय समय के अनुसार 1:42 पर शुरू होकर शाम 6:41 पर समाप्त होगा. यह ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा, जिसकी वजह से इसका सूतक भी नहीं मान्य होगा. 9 जून 2021 को दोपहर 1:57 से अमावस्या प्रारंभ होगी, जों 10 जून 2021 को शाम 4:20 पर समाप्त होगी. वही करनाल के नर्सिंग के ज्योतिष विद्या केंद्र के अमित मोदगिल का कहना है कि सूर्य ग्रहण भारत में आंशिक रूप से होगा.

यह भी पढ़े   देवशयनी एकादशी के साथ आज से शुरू होगा चातुर्मास, अगले 4 महीनों तक नहीं होंगे कोई भी मांगलिक कार्य

सूर्य ग्रहण का सूतक काल ग्रहण से 12 घंटे पहले लगता है. इसमें कोई भी शुभ कार्य जैसे यज्ञ, अनुष्ठान आदि नहीं किए जाते. साथ ही मंदिरों के कपाट भी बंद रहते हैं. जो ग्रहण भारत में दिखाई देगा,उसका सूतक काल भी भारत में मान्य होगा.

About Monika Sharma