Breaking News

13 बार मिली असफलता, 14वी बार में एयर फोर्स में फ्लाइंग ऑफीसर बनी अम्बाला की लाडो

अंबाला । हरियाणा की बेटियां किसी भी मामले में लड़कों से कम नहीं है. बता दें कि लड़कियां स्पोर्ट्स के साथ आर्मी और प्राइवेट सेक्टर में भी नाम कमा रही है. हरियाणा के अंबाला की बेटी रमनदीप ने इंडियन एयर फोर्स में फ्लाइंग ऑफिसर बन कर अपने गांव का नाम रोशन किया.

13 बार असफलता का मुंह देखने के बाद हासिल की मंजिल

बता दे कि रमनदीप अंबाला के गांव टूंडला की रहने वाली है. लेकिन रमनदीप को यह सफलता बैठे-बिठाए नहीं मिली बल्कि इसके लिए उन्होंने काफी मेहनत की. इस सफलता से पहले रमनदीप को 13 बार हार का मुंह देखना पड़ा. बता दें कि रमनदीप ने 7 बार एयर फोर्स कॉमन एंट्रेंस टेस्ट व कंबाइंड डिफेंस सर्विस में 7 बार लिखित परीक्षा, मेडिकल व इंटरव्यू पास किया, लेकिन ऑल इंडिया मेरिट मे नाम न आने से उनका सपना पूरा नहीं हो सका. 13 बार सफलता के बाद भी रमनदीप ने हार नहीं मानी और वह लगातार प्रयास करती रही. रमनदीप को अपने पिता से एयरफोर्स का जज्बा मिला . बता दे कि उनके पिता राम रतन सिंह एयरपोर्ट से सर्जन रिटायर हो चुके हैं.

यह भी पढ़े   रात को दुकानों पर चलाई थी JCB, अनिल विज ने आदेश पर SHO सस्पेंड, जानिए पूरा मामला

उन्होंने बताया कि जब जब उनकी बेटी असफल हुई हर बार उसने अगली बार के लिए तैयार किया. रमनदीप ने फ्लाइंग ऑफिसर बनने के लिए हैदराबाद से ट्रेनिंग ली. बता दे कि रमनदीप के पिता, मां मनजीत व छोटे भाई जतिन बहन व अन्य परिजनों ने केक काटकर उनकी कामयाबी का जश्न मनाया. उनके परिजनों ने बताया कि रमनदीप जब पांचवी कक्षा में थी तब से एयरपोर्ट में भर्ती होने का सपना देख रही थी. रमनदीप ने प्राइवेट स्कूल से 12वीं कक्षा की, उनको गणित में 56% अंक मिले जबकि फाइटर पायलट के लिए 60% अंकों की जरूरत थी. कॉलेज में एनसीसी कैडेट रही और दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड में बेस्ट कैडेट का अवार्ड जीता. एनसीसी में देश की तरफ से  श्रीलंका  भी गई. 2015 में उन्होंने बीएससी पास की उसके बाद से वह परीक्षा की तैयारी में लग गई.

यह भी पढ़े   महिला लेफ्टिनेंट ने लगाई फांसी, परिजनों का आरोप दहेज के लिए की गई बेटी की हत्या

About Monika Sharma