Breaking News

हरियाणा के प्राइवेट स्कूल, शिक्षा विभाग और सरकार के खिलाफ शुरू करेंगे असहयोग आंदोलन

हिसार ।  हरियाणा में प्राइवेट स्कूलों के दिन अच्छे नहीं चल रहे हैं. एसएलसी मुद्दे को लेकर शिक्षा विभाग और प्राइवेट स्कूल संचालकों का विवाद गहराता जा रहा है. इसके लिए हरियाणा के विभिन्न प्राइवेट स्कूल यूनियनों ने शिक्षा विभाग के खिलाफ असहयोग आंदोलन की हुंकार भरी है. बता दें कि प्राइवेट स्कूल संचालकों ने एक मीटिंग के दौरान फैसला लिया कि हरियाणा सरकार की शह पर हरियाणा में प्राइवेट स्कूल संचालकों को शिक्षा विभाग द्वारा अलग-अलग तरीके से परेशान किया जा रहा है, इसे प्राइवेट स्कूल यूनियन बर्दाश्त नहीं करेगी. इसके लिए उन्हें सड़कों पर उतरना पड़ेगा तो वह पीछे नहीं हटेंगे.

File Photo

शिक्षा विभाग और प्राइवेट स्कूल संचालकों के बीच विवाद बढ़ता हुआ

वही सर्व हरियाणा प्राइवेट स्कूल संघ के प्रदेशाध्यक्ष नरेंद्र शेट्टी की अध्यक्षता में प्राइवेट स्कूल संचालकों की मीटिंग हुई. जिसमें फैसला लिया गया कि प्राइवेट स्कूल संचालक शिक्षा विभाग की परेशान करने वाली नीतियों से इतने परेशान हो चुके हैं कि स्कूल संचालकों ने असहयोग आंदोलन का सर्व समिति से फैसला लिया है. वहीं नरेंद्र सेठी ने बताया कि प्राइवेट स्कूल संचालकों को शिक्षा विभाग के अधिकारियों द्वारा जानबूझकर परेशान किया जा रहा है. एसएलसी मुद्दे को लेकर वर्तमान में विवाद बढ़ता जा रहा है,  यह प्राइवेट स्कूल के लिए गले की फान्स बन चुका है.

यह भी पढ़े   इंसानों के बाद अब जानवरों में मिला कोरोना, हिसार मे कई कटड़े पाए गए पॉजिटिव

पिछले सत्र के दौरान जिन बच्चों की मासिक फीस बकाया थी,  उन्हें शिक्षा विभाग के आदेशानुसार सरकारी स्कूलों में बिना एसएससी के दाखिले दिए जा रहे हैं. जिसकी  वजह से प्राइवेट स्कूल आर्थिक तौर पर टूट चुके हैं. क्योंकि छात्र बिना एसएससी लिए और बिना पिछले सत्र की बकाया मासिक फीस दिए सरकारी स्कूलों में दाखिला ले रहे. इसके विरोध में सभी यूनियन ने शिक्षा विभाग के खिलाफ असहयोग आंदोलन करने का फैसला किया है.

विभाग द्वारा जारी किए गए किसी भी डाक या पत्र का जवाब नहीं देने का फैसला किया है. इसके साथ-साथ यूनियन के कहने पर सभी स्कूल संचालकों ने शिक्षा विभाग अधिकारियों द्वारा जिला स्तर पर डाक या पत्र का जवाब देने के लिए बनाए गए व्हाट्सएप ग्रुप जिसमें एवीआरसी द्वारा डाक या स्कूल डाटा,  सूचना आदि मांगी जाती थी, उन्हें भी छोड़ने का फैसला लिया है.

यह भी पढ़े   हिसार में दर्दनाक हादसा:दो जून की रोटी कमाने निकले मजदूरों का टैंपो गैस के टैंकर से टकराया, महिला की मौत; पांच घायल

About Monika Sharma