Breaking News

1500 फुट बोर करने के बाद भी नहीं निकलता पानी, युवाओं ने निकला समस्या का हल

महेंद्रगढ़ । राजस्थान बॉर्डर के साथ लगते 7 गांव की पानी की समस्या के समाधान को लेकर युवाओं ने एक नई पहल शुरू की है. गांव पल्ह, बैरावास, गडानिया, पाल, खेड़की, निहालावास व दुलोठ गांव के सैकड़ों युवाओं ने इस नई मुहिम को लेकर बाबा गुप्त नाथ आश्रम प्लह में एक पंचायत आयोजित की. इसमें इन सातों गांव के युवाओं ने संयुक्त रूप से बताया कि गांव के जलस्तर की स्थिति बाकी अन्य गांवों की तुलना में अलग है. यहां पर 1500 फुट तक बोर करने के बाद भी पानी नहीं निकलता. इसी वजह से किसान लाखों रुपए का कर्जदार होता जा रहा है. अब तो इन गांवों में पीने के पानी की भी किल्लत हो गई है, पीने के पानी के लिए भी टैंकरों पर निर्भर रहना पड़ता है.

यह भी पढ़े   बड़ी राहत: चंडीगढ़ व गुरुग्राम की तरह अंबाला डिपो को भी मिलेगी वोल्वो बसें

इन गांवों में पानी की समस्या से परेशान हैं लोग 

इस अवसर पर युवाओं ने बताया कि इन गांवों में नेहरे तो बनी हुई है पर इनमें पानी ना के बराबर आता है. वर्षों पहले विभाग ने जो जोहड़ खोदे थे, उनमें भी पानी नहीं भरा जाता. युवाओं ने कहा कि वे बुजुर्गों की अगुवाई में इस लड़ाई को लड़ेंगे और किसी तरह का राजनीतिक हस्तक्षेप इसमें नहीं होने दिया जाएगा. साथ ही उन्होंने कहा कि अगर कोई समाजसेवी इस मुहिम में साथ देगा तो उनका स्वागत है. युवाओं ने कहा कि अलग-अलग काम के लिए कमेटियां बनाई जाएंगी. श्री सुंडाराम ट्रस्ट के प्रधान संदीप मालडा भी बैठक में मौजूद थे. उन्होंने कहा कि उनका उद्देश्य इन गांवों के युवाओं को जागरूक करना और जोड़ना है.वे इन गांवों के युवाओं को ऐसे ही सहयोग देते रहेंगे. सभी ने तय किया कि अगली बैठक बुधवार को पाल गांव के मंदिर में शाम 5:00 बजे आयोजित की जाएगी.

यह भी पढ़े   हरियाणा में 7 जुलाई तक बदलेगा मौसम, धूल भरी हवाओं व गरज के साथ होगी बारिश

About Monika Sharma