Breaking News

भोंडसी जेल में कैदी ने तौलिए से लगाई फांसी, सुसाइड नोट में लिखा….

सोहना । सोहना के भोंडसी में बनी जिला मॉडर्न जेल में एक कैदी ने फांसी का फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली. कैदी जेल में पोस्को एक्ट के तहत एक मामले में बंद था. बताया जा रहा है कैदी ने अपने तौलिए को फांसी का फंदा बनाया और अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली. कैदी का नाम गौतम सैनी बताया गया. जैसे ही जेल प्रशासन को पता लगा कि किसी कैदी ने जेल में आत्महत्या कर ली है तो जेल में हड़कंप मच गया.

प्रतीकात्मक फोटो.

सूचना भोंडसी थाना पुलिस को दी गई. सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची शव को फांसी के फंदे से उतारा और उसकी सूचना उसके परिजनों को दी. पुलिस द्वारा दी गई सूचना मिलते ही गौतम के परिजन जेल में पहुंचे लेकिन गौतम सोनी के छोटे भाई ने उसका शव लेने से मना कर दिया. उसके बाद मृतक शरीर को अंतिम संस्कार के लिए नगर निगम को सौंप दिया गया.

यह भी पढ़े   बाबा रामदेव को झटका: पतंजलि के सरसों के तेल में मिलावट, ऑयल मिल सील

पुलिस ने बताया कि गौतम शरीर की एलर्जी से पीड़ित था. काफी दिनों से इस एलर्जी से परेशान चल रहा था. बताया गया कि गौतम सैनी पर साल 2018 में पोस्को एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया था. उसे अदालत में पेश किया गया. अदालत ने उसे 4 साल कैद की सजा सुनाई. जेल के अधिकारियों ने बताया कि वह पिछले कई महीनों से एनर्जी से परेशान था. उसका इलाज भी चल रहा था, लेकिन वह इस बीमारी को लेकर काफी चिंतित रहता था. .

सोमवार रात को उसने गमछे से फांसी का फंदा लगा कर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली. सुबह जब कैदियों ने उसे लटके देखा, तो पुलिस को इस बात की जानकारी थी. पुलिस ने शव को उतारा और गुरुग्राम नागरिक अस्पताल के शव गृह में भिजवाया गया. शव का पंचनामा कर अंतिम संस्कार के लिए नगर परिषद को सौंप दिया गया.

यह भी पढ़े   पानीपत में पहले पत्नी और बच्चे का गला घोटा, फिर ट्रेन के सामने कूदकर दी जान

सुसाइड नोट में बताई यह वजह

गौतम ने मरने से पहले एक सुसाइड नोट भी लिखा था. जब पुलिस ने उसे फांसी से नीचे उतारा. तब उसके पास एक सुसाइड नोट भी रखा मिला. जिसमें उसने लिखा मेरी मौत का कोई जिम्मेदार नहीं है. मैं अपने शरीर की समस्या को लेकर परेशान था. इसीलिए मैंने ऐसा कदम उठाया. मैं उन डॉक्टरों का आभारी हूं जिन्होंने मेरा इलाज किया.

About Rohit Kumar