Breaking News

उपचुनाव जीतकर पहली बार विधायक बने थे ओमप्रकाश चौटाला, पढ़ें कहां से हुई थी उनके राजनीतिक जीवन की शुरुआत

चंडीगढ़ । हरियाणा के कुल 5 बार मुख्यमंत्री रहे और इनेलो पार्टी सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला, जिन्हें जनवरी 2013 में प्रदेश के जेबीटी टीचर घोटाले में दोषी पाए जाने पर दिल्ली की सीबीआई कोर्ट द्वारा 10 वर्ष के कारावास की सजा दी गई थी. जिसमें उनकी 9 वर्ष 6 महीने की सजा पूरी हो चुकी है. वही 6 महीने की सजा दिल्ली सरकार द्वारा माफ कर दी गई है. जिस कारण अगले सप्ताह तक कानूनी औपचारिकताएं पूरा करने के बाद सुप्रीमो प्रमुख रिहा हो जाएंगे.

क्या ओम प्रकाश चौटाला ऐलनाबाद से चुनाव लड़ सकते हैं 

बता दे कि आने वाले कुछ महीनों में सिरसा जिले की ऐलनाबाद सीट का उपचुनाव भी होना है, अक्टूबर 2019 विधान आम चुनावों में उनके छोटे पुत्र अभय चौटाला विधायक निर्वाचित हुए थे . लेकिन उन्होंने 27 जनवरी को केंद्र के तीन कृषि कानूनों के विरोध में अपना त्यागपत्र दे दिया था. सीट का उपचुनाव सीट रिक्त होने के 6 महीने के भीतर अर्थात  27 जुलाई से पहले होना चाहिए, लेकिन भारतीय चुनाव आयोग द्वारा निर्णय लिया गया है कि कोविड-19 महामारी से उत्पन्न हालात सामान्य होने के बाद ही उपचुनाव कराए जाएंगे. क्या ओम प्रकाश चौटाला  ऐलनाबाद चुनाव लड़ सकते हैं.

यह भी पढ़े   हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री ओमप्रकाश चौटाला आज होंगे जेल से रिहा

इस पर जवाब देते हुए पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट के एडवोकेट हेमंत कुमार का कहना है कि यह इस बात पर निर्भर करेगा कि क्या भारतीय चुनाव आयोग उनकी चुनाव लड़ने संबंधित अयोग्यता अवधि को आरपी एक्ट 1951 की धारा 11 में हटाता है अथवा नहीं. भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 में दोषी साबित होने के कारण कानूनन ओम प्रकाश चौटाला रिहाई से 6 वर्षों तक कोई भी चुनाव नहीं लड़ सकते.

यहां से की थी जीत की शुरुआत 

बता दे कि आज से 51 साल पहले मई 1970 में ओम प्रकाश चौटाला ने अपने राजनीतिक जीवन का पहला उपचुनाव ऐलनाबाद से ही जीता था. वही हेमंत ने आगे बताया कि अब जून 1987 में देवीलाल प्रदेश के दूसरे बार मुख्यमंत्री बने थे तो उन्होंने अगस्त 1987 में ओम प्रकाश चौटाला को राज्यसभा सांसद बनाया था.

यह भी पढ़े   28 जून को सरेंडर कर तिहाड़ जेल से बाहर निकलेंगे ओम प्रकाश चौटाला, हरियाणा में चढ़ने लगा है सियासी पारा

कांग्रेस के एमपी कौशिक जो  अप्रैल 1984 में राज्यसभा सांसद बने थे, उनकी 1987 में मृत्यु के बाद खाली हुई सीट से पहले कुछ समय के लिए जनता दल के कृष्ण कुमार दीपक और फिर उनके त्यागपत्र के बाद चौटाला को शेष बची अवधि 28 अप्रैल 1990 तक राज्यसभा का सांसद बनाया गया था. 1993में नरवाना उप चुनाव जीता उसके बाद 1996,2000,  2005 और 2009 विधानसभा आम चुनाव में नरवाना, रोडी उचाना कला और ऐलनाबाद से चुनाव जीता.

About Monika Sharma