Breaking News

नौवीं कक्षा के 80 छात्रों में से 60 फेल, भड़के परिजनों व बच्चो का जोरदार प्रदर्शन

फतेहाबाद । हरियाणा के फतेहाबाद से अजीबोगरीब मामला सामने आया है. यहां के जल्लोपुर गांव के नौवीं कक्षा के 80 विद्यार्थियों में से 60 को स्कूल ने फेल कर दिया. इससे भी ज्यादा हैरानी की बात यह है कि यह प्राइवेट स्कूल के विद्यार्थी नहीं है. यह आरोही मॉडल स्कूल के बच्चे हैं, जिनको फेल किया गया है. विद्यार्थियों का आरोप है कि कोरोना काल में उनकी पढ़ाई नहीं हो पाई.

उनकी सही से कक्षाएं भी नहीं लग पाई, इसके बावजूद भी ज्यादातर छात्रों को फेल किया गया. आरोप लगाते हुए छात्रों ने कहा कि स्कूल प्रशासन द्वारा विद्यार्थियों के भविष्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है.

यह भी पढ़े   प्रदेश में 12 लाख विद्यार्थी अभी भी MIS पोर्टल पर अपडेट नहीं, शिक्षा विभाग ने दिए निर्देश

विद्यार्थियों के साथ-साथ उनके परिजन भी भड़के हुए थे. बच्चों के परिजनों ने वीरवार को रतिया एसडीएम ऑफिस में जाकर प्रदर्शन किया. उन्होंने मांग कि की उनके बच्चों को प्रमोट किया जाए. परिजनों का भी कहना था कि जब विद्यार्थियों की सही तरीके से पढ़ाई ही नहीं हो पाई, तो ऐसे में बच्चों को फेल करने का क्या औचित्य है.

सरकार ने दसवीं के विद्यार्थियों को भी किया था प्रमोट

यहां ध्यान देने वाली बात यह है कि सरकार ने दसवीं कक्षा के विद्यार्थियों को बिना परीक्षा ही प्रमोट कर दिया था. ऐसा कोरोना की वर्तमान परिस्थितियों के मद्देनजर किया गया था, क्योंकि इन परिस्थितियों में परीक्षा लेना संभव नहीं था. ऐसे में विद्यार्थियों को प्रमोट करना ही एकमात्र विकल्प था. दसवीं की परीक्षा बोर्ड की परीक्षा होती है. इसे विद्यार्थी जीवन में विशेष महत्व दिया जाता है. ऐसे में यदि दसवीं कक्षा के विद्यार्थियों को बिना परीक्षा प्रमोट किया जा सकता है, तो इन नौवीं कक्षा के बच्चों के साथ ऐसा करना सरासर नाइंसाफी है.

यह भी पढ़े   हरियाणा में फिर बढ़ाई गई स्कूलों की छुट्टियां, जाने कब तक रहेंगे बंद

About Rohit Kumar