Breaking News

NGT की सख्ती से 3 महीने बंद रहेंगे भट्टे, ईटों के दाम छू सकते है आसमान

पानीपत। लॉकडाउन में रियायत मिलते ही वायु प्रदूषण लगातार बढ़ रहा है. बता दे कि 3 जुलाई को एयर क्वालिटी इंडेक्स का स्तर 274 तक पहुंच गया था, ऐसे में एनजीटी ने सख्त कदम उठाना शुरू कर दिया है. वायु प्रदूषण के स्तर को बढ़ने से रोकने के लिए खाद्य एवं आपूर्ति विभाग एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड सभी  का भटठो सर्वे करेगा.

 बढ़ेंगे ईटों के दाम जानिए वजह  

सर्वे के लिए निरीक्षण टीमों का भी गठन किया गया है. बता दें कि यह टीमें सर्वे करके यह सुनिश्चित करेगी कि अब कोई भी ईट भट्टे ने चले. अगर इस दौरान कोई ईट भट्टे चलते हुए मिले तो उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. सर्वे में भटठो ने मानक पूरे किए है या नहीं यह डाटा भी तैयार किया जाएगा. वही डीएफएससी सुभाष सिहाग ने बताया कि एनजीटी ने ईट भट्टा संचालकों पर कई प्रकार की पाबंदियां लगाई है. यही नहीं कोयला आधारित भट्टो को गैस आधारित करने की कवायद भी शुरू कर दी गई है. एनजीटी ने ईट भट्टा संचालकों को 30 जून तक चलाने की छूट दी थी.

यह भी पढ़े   हरियाणा में खतरनाक स्तर तक गिरा भू-जलस्तर, सर्वे ने किया हैरान

विभाग ने इस संबंधी भट्टे को बंद करने के निर्देश जारी किए थे. ब्लॉक स्तर पर टीमों का गठन करके यह सुनिश्चित किया जा रहा है कि एनजीटी के निर्देशों का पालन किया जा रहा है या नहीं. ईट भट्टे बंद रहने से भाव और अधिक उछलेंगे. बता दें कि फिलहाल अब्बल ईट का भाव 7100 रुपए से अधिक चल रहा है. जिसका कंस्ट्रक्शन कार्यों पर असर साफ दिखाई देगा. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी कमलजीत सिंह ने बताया कि जुलाई से तीन महीनों के लिए भट्टे बंद होते हैं.

यह भी पढ़े   इनेलो सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला की रिहाई का प्रण पूरा होने पर समर्थक ने कटवाई 8 साल बाद दाढी

About Monika Sharma