Breaking News

जिस अस्पताल में मुख्यमंत्री ने किया था उद्घाटन, अब उसकी सुध लेने वाला कोई नहीं

गुरुग्राम । कोरोना महामारी के बीच मुख्यमंत्री और शासन-प्रशासन की मुस्तैदी देखते ही बनती है. राज्य सरकार अपनी तरफ से ऐसी कोई कमी नहीं छोड़ती जिससे जनता में यह संदेश न जाए कि राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं में कोई कमी है, चाहे वास्तविकता कुछ भी हो. तभी तो गाहे-बगाहे जब भी सरकार द्वारा विभिन्न योजनाओं का फीता काटा जाता है, तो उसका प्रचार-प्रसार भरपूर किया जाता है.

File Photo.

दरअसल प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल खट्टर गुरुग्राम के सेक्टर 38 में चौधरी देवीलाल स्टेडियम स्थित कोविड मरीजों के इलाज के लिए बनाये गए अस्थाई अस्पताल का उद्घाटन कर के गए थे. अब इस अस्पताल में अव्यवस्थाओं का नजारा देखा जा सकता है. सोमवार दोपहर तक इस अस्पताल में एक भी डॉक्टर नहीं था. महत्वपूर्ण बात यह भी है कि जिस दिन मुख्यमंत्री ने इस अस्पताल का उद्घाटन किया था, तब उनके संज्ञान में अस्पताल में व्याप्त ये व्यवस्थाएं भी सामने आई थीं. फिर भी किसी ने इस अस्पताल में व्याप्त व्यवस्थाएं को दूर करने के बारे में नहीं सोचा.

यह भी पढ़े   खट्टर के 'ड्रामा' वाले बयान पर केजरीवाल का पलटवार, रणदीप ने कहा सद्बुद्धि की कामना करते हैं

गुरुग्राम के ताऊ देवीलाल स्टेडियम में जिस अस्थाई अस्पताल का उद्घाटन स्वयं मुख्यमंत्री करके गए थे, आज उसका नजारा बिल्कुल बदला-बदला नजर आ रहा था. एक दिन पहले ही जहां डॉक्टरों की फौज मौजूद थी, अगले ही दिन वहां एक भी डॉक्टर दिखाई नहीं दिया. वहीं दूसरी तरफ डॉक्टरों की ओपीडी के लिए बनाए गए वार्ड में सोमवार को हार्डवेयर का सामान और गत्ते पड़े हुए मिले. ऑक्सीजन कंसंट्रेटर भी अगले दिन गायब हो चुके थे. यहां तक कि बेड पर बिछी हुई चद्दरें तक गायब थी.

मरीजों को करना पड़ा परेशानियों का सामना

मरीजों की सुविधा के लिए बनाए गए इस अस्थाई अस्पताल का उद्घाटन तो हो गया, लेकिन वहां पर इलाज करवाने के लिए पहुंचने वाले मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ा. लोगों को ऐसी उम्मीद थी कि मुख्यमंत्री साहब ने अस्पताल का उद्घाटन किया है तो अवश्य वहां अच्छा इलाज मिलेगा. लेकिन सोमवार दोपहर तक अस्पताल में एक भी डॉक्टर मौजूद नहीं था. जहां रविवार को ऑक्सीजन कंसंट्रेटर रखे गए थे.

यह भी पढ़े   IMT मानेसर की मारुती कंपनी के पास लगी भीषण आग, 15 करोड़ के नुकसान का अनुमान

अगले दिन वहां बिजली की वायरिंग की जा रही थी. ऐसे में यह माना जा सकता है कि तमाम कमियों के बावजूद भी जल्दबाजी में इस अस्पताल का उद्घाटन करवा दिया गया. इस बारे में जब जिला उपायुक्त से संपर्क करने की कोशिश की तो उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं मिल पाया.

About Rohit Kumar