Breaking News

मौसम अलर्ट: चक्रवाती तूफान ‘यास’ आज आएगा इन जगहों पर, जाने डिटेल

नई दिल्ली । भारत मौसम विज्ञान विभाग आईएमडी द्वारा मौसम पूर्वानुमान जारी किया गया. मौसम विभाग की तरफ से बताया गया कि बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र अब अधिक दबाव वाले क्षेत्र में तब्दील हो चुका है और उम्मीद है कि 26 मई को पश्चिम बंगाल तथा ओडिशा के तटों को यह पार करने से पहले ‘बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान’ के रूप में बदल जाएगा. मौसम विभाग ने बताया कि दबाव वाले क्षेत्र के सोमवार तक चक्रवाती तूफान ‘यास’ में बदलने की संभावना बनी हुई है.


भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के चक्रवात चेतावनी विभाग की तरफ से बताया गया ” दबाव वाले क्षेत्र के उत्तर-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ने तथा 24 मई की सुबह तक चक्रवाती तूफान और इसके अगले 24 घंटों में बहुत गंभीर चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना बनी हुई है.

यह भी पढ़े   मॉनसून में बार-बार बदलाव से मौसम वैज्ञानिक भी हैरान

यह उत्तर-उत्तर पश्चिम की ओर बढ़ेगा और उतना ही मजबूत होगा. यह 26 मई की सुबह तक पश्चिम बंगाल और उत्तर उड़ीसा के तटों के पास उत्तर-पश्चिम बंगाल की खाड़ी में पहुंच जाएगा. ”
उन्होंने बताया कि 26 मई की शाम तक यह गंभीर चक्रवाती तूफान के रूप में बदल जाएगा और पारादीप और सागर द्वीपों के बीच उत्तर ओडिशा-पश्चिम बंगाल पार कर लेगा. उन्होंने बताया कि चक्रवाती तूफान के कारण 155 से 165 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलने की संभावना है.

केंद्र और राज्य सरकारें अलर्ट मोड पर, मोदी ने संभाली कमान

चक्रवाती तूफान व्यास की संभावना के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को एक उच्च स्तरीय बैठक आयोजित की, जिसमें राज्यों और केंद्र सरकार की एजेंसियों की तैयारियों की समीक्षा की गई. बैठक में समुद्री गतिविधियों में शामिल लोगों को समय रहते सुरक्षित स्थानों पर भेजने के निर्देश दे दिए गए. प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से एक बयान भी जारी किया गया, जिसमें बताया गया कि प्रधानमंत्री मोदी ने सभी अधिकारियों से राज्यों के साथ तालमेल स्थापित करने को कहा है, ताकि ज्यादा जोखिम वाले क्षेत्रों से लोगों को बिना हानि के बाहर निकाला जा सके.

यह भी पढ़े   ओम प्रकाश चौटाला- जब तक चौधरी देवी लाल के सपने पूरे नहीं होंगे, मैं राजनीति में सक्रिय रहूंगा

उन्होंने इस बात पर भी बल दिया कि विद्युत आपूर्ति या संचार नेटवर्क में कोई नुकसान होने पर उसे जल्दी से ठीक किया जाए. मोदी ने अधिकारियों को आदेश दिया कि वह देखें कि राज्य सरकारों के साथ सही तालमेल बनाया जाये और ऐसी योजना बनाई जाए कि अस्पतालों में कोरोना मरीजों का उपचार और टीकाकरण का काम बाधित ना हो.

About Rohit Kumar